नीलामी रिकॉर्डर

  1. पर्चा पी. पर निलामी षुरू करना और रिर्कार्ड करना।
  2. अधिनियम, नियम और उपनियमों के प्रावधान का उचित कार्यान्वयन में सहायता करना और नियम के अनुसार सभी फार्मो को सुनिष्चित करना।
  3. कीमतों, आगमनों, रवानगी, आयात तथा निर्यात आदि बाजारी जानकारी हासिल करना, इकत्रित करना, अपलोड करना, प्रचार करना।
  4. नियम 30;17द्ध के तहत विक्रेता को फार्म ‘आर‘ के रूप मे उचित फरोखत वाउचर, नियम 30;15द्ध व ;16द्ध के तहत फार्म ‘क्यू‘ के रूप मे आड़तिय के बिल और नियम 32 के तहत फार्म ‘टी‘ के रूप में  क्रेेता व विक्रेता के बीच में हुए इकरारबंध को निष्चित रूप में जारी करना।
  5. निजी बाजार क्षेत्र में नियम 31;7द्ध के तहत फार्म ‘एस‘ में निलामी और रजिस्टर की उचित जांच निष्चित करनी।
  6. नियम 37;2द्ध के तहत फार्म ‘डब्ल्यु‘ पर कृशि उपज की बिक्री और खरीद का रजिस्टर बनाए रखना।
  7. जहां जरूरत हो वहां बाजारी षुल्क जमा करना तथा डीलर बही खाता में बाजारी षुल्क का खाता बनाए रखना।
  8. मंडी निरिक्षक द्वारा खातो की जांच में सहायता करनी
  9. एपीएमसी की दुकानों आदि का किराया इकट्ठा करना।
  10. प्राधिकरणों द्वारा समय-समय पर सौंपा जाने वाला कोई भी अन्य कार्यभार।