विधि अधिकारी

  1.   सभी अदालती मुकद   ्में, संगठन के सेवा के मामलो को हल करना, रिट याचिकाओं, अपील, मुकदमें, अदालती मामले, दफतरी जांच, अन्य नोटिस के सम्बन्ध में जवाब तैयार करने की जिम्मेदारी, मामलों की प्रतिभुति करना, कानूनी सलाह देना, विभागी मुकदमे तथा अन्य प्रषासनिक मामलों के सम्बन्ध में उच्च न्यानलय कोर्ट, ट्रिबयुनल तथा अन्य कचहरी में हाजर होना
  2. बोर्ड के मानयोग सभापति द्वारा सरकार को जरूरी अपील/ पुनः अवलोकन देने में सहायता करनी, एक्ट/नियम/कानून/अधिनियम/विधानों आदि के अधीन फैंसला करना/याचना/प्रतिनिधित्व करना।
  3.   संगठन के हित की सुरक्षा के लिए अदालती मुकदमों तथा अन्य मामलों की पैरवी करनी और वैधानिक कार्य, इकरारनामों अनुबन्ध तथा एमओयू आदि में सहायता करनी।
  4. मुकदमों के रिकार्ड, कानूनी बही खातों और पत्रिकाओं, अधिसूचनाओं की सही देख-रेख निष्चित करनी
  5. अपराधिक अभियोग, असैनिक मुकदमेबाजी, कानूनी नोटिस, भुमि अधिग्रहण मुकदमों, अन्य दावे, विभिन्न प्रकार के असैनिक मुकदमों, अन्य विभागीय कारवाईयों और प्रषासनिक मामलों, जिनमें सीधे यां अप्रत्यक्ष ढंग में सरकारी मामले षामिल होने के सम्बन्ध में कार्यवाई करना
  6. न्यायिक/कार्यकारी अदालतों के लिये लिखती ब्यान, जवाब, प्रतिउत्तर, कनूनी कार्यवाई को निष्चित रूप में तैयार करना। अधिकारियों द्वारा किसी भी समय मांगे जाने पर कानूनी सलाह देनी। सुनाये गये फैंसले, असैनिक मुकदमों तथा वार्तालापमय, न्यायिक अदालत के अंतर्कालिन हुक्म की जांच करना। पुनः विचार सम्बन्धि अदालत समेत न्यायिक अदालत, ट्रिबियुनल आदि के लिए अपील/पुनः अवलोकन तैयार करना
  7. सभी मुकदमों की समय-समय पर समीक्षा करनी और अधिकारियों को अगली कार्यवाई के बारे में सुचित करना
  8. अधिकारी द्वारा समय-समय पर सौंपा जाने वाला कोई भी अन्य कार्य