मंडी के मंडी स्थल

(क) उप मंडी स्थ ल धानोटू (एस/नगर)

1 स्थाकपना का वर्ष 2002
2 क्षेत्रफल 8-02-16 Bighas
3 फल एवं सब्जि‍यों के सी.ए./डीलरों की संख्या् 37
4 दुकानों और बूथों की संख्याक 55+14.
5 ढका हुआ नीलामी चबूतरा
6 टॉयलेट ब्लॉ क 2
7 बैंक हॉल 1
8 किसान विश्राम गृह 1(टॉप फ्लोर पर प्रस्ताहवित)
9 पानी एवं बिजली सुविधा  

(ख) उप मंडी स्थोल ताकोली

1 स्थाखपना का वर्ष 1998
2 क्षेत्रफल 9-16-14 बीघे
3 आढ़तियों की संख्याक 43
4 दुकानें 36
5 कैंटीन
6 किसान विश्राम गृह
7 चबूतरे के इर्द-गिर्द आने जाने की जगह  
8 अंदर आने और बाहर जाने के लिए दरवाजे  
9 मंडी स्थ ल में पार्किंग की सुविधा  
10 मंडी के प्रयोक्ताहओं के लिए टॉयलेट ब्लॉनक  
11 पानी और बिजली की सुविधाएं  

(ग) उप मंडी स्थबल पाली

1 स्थागपना का वर्ष 2003.
2 क्षेत्रफल 0-6-0 बीघा 
3 दुकानों की संख्या

उक्तल मंडी स्थाल की स्थायपना पर एपीएमसी ने 15.73 लाख रुपए का निवेश किया है। उपरोक्तक मंडी का संचालन शुरू नहीं हो सका है, क्योंाकि आबंटी कृषि उत्पाएदों का कारोबार संचालित नहीं कर रहे हैं।

उक्तल मंडी स्थाल की स्थायपना पर एपीएमसी ने 15.73 लाख रुपए का निवेश किया है। उपरोक्तह मंडी का संचालन शुरू नहीं हो सका है, क्योंाकि आबंटी कृषि उत्पाएदों का कारोबार संचालित नहीं कर रहे हैं।

(घ) विनियमित मंडी स्थाल, मंडी (कांगनी)

एपीएमसी ने कृषि विभाग के नाम स्थाीनांतरित 8-15 बीघे में सभी आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध4 करवाई हैं। यह परियोजना 5.26 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत के साथ पूरी हुई। उक्त मंडी का 24 फरवरी, 2009 को हिमाचल प्रदेश के मुख्य6मंत्री ने उद्घाटन किया था।

निम्नमलिखित ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं:

(क) व्यानपारियों की दुकानें 47 
(ख) पार्किंग क्षेत्र 1900 वर्ग मीटर
(ग) तुलाचौकी के साथ कम्यू की टराइज्डा नियंत्रण कक्ष
(घ) रोजमर्रा की जरूरत के सामान की दुकानें/td>
(ड़) टॉयलेट ब्लॉ क
(च) ढके हुए नीलामी चबूतरे 877.50 वर्ग मीटर
(छ) पैकिंग और ग्रेडिंग 191 वर्ग मीटर
(ज) शीत भंडारण के लिए जगह 62.25 वर्ग मीटर
(झ) परिपाक इकाई/रवानगी डेस्क के लिए जगह 102.77 वर्ग मीटर
(ञ) मीटिंग हॉल सहित एपीएमसी कार्यालय
(ट) किसान विश्राम गृह, टॉप फ्लोर पर
(ठ) कैंटीन
(ड) बैंक हॉल

(ड़) उप मंडी स्थएल चायल चौक की स्थासपना

4-16-05 बीघा भूमि पर स्थिजत उप मंडी स्थलल चायल चौक की परियोजना पूरी हो चुकी है। यह दाढोर-जंझेली राज्या राजमार्ग पर गोहर से 5 किलोमीटर दूर स्थि्त है। केंद्र प्रायोजित योजना के तहत इस परियोजना की कुल लागत 160.68 लाख रुपए थी।

इस मंडी में निम्नपलिखित ढांचागत सुविधाएं उपलब्धल करवाई गई हैं:

1 व्यांपारियों की दुकानें
2 पार्किंग क्षेत्र 37 वर्ग मीटर
3 कम्यूमीट टराइज्डं नियंत्रण कक्ष के साथ तुलाचौकी
4 ढका हुआ नीलामी चबूतरा 486 वर्ग मीटर
5 पैकिंग/ग्रेडिंग हॉल 128 वर्ग मीटर
6 कूड़ा निपटान 40 वर्ग मीटर
7 लदान और उतराई की जगह 1170 वर्ग मीटर
8 कैंटीन 55.79 वर्ग मीटर
9 बैंक हॉल 41.60 वर्ग मीटर
10 कार्यालय 22.36 वर्ग मीटर
11 किसान विश्राम गृह 63.96
12 टॉयलेट

(च) उप मंडी स्थ्ल जोगिंदर नगर की स्थानपना

0-19-10 बीघा भूमि पर उप मंडी स्थनल जोगिंदर नगर का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। यह मंडी-पठानकोट राष्ट्री य राजमार्ग पर शहर के बीचों-बीच स्थिथत है। केंद्र प्रायोजित योजना के तहत इस परियोजना की कुल लागत 131.55 लाख रुपए थी। इस मंडी में निम्न्लिखित ढांचागत सुविधाएं उपलब्धा करवाई गई हैं:

भूतल पर निर्माण:

ब्यौ रा क्षेत्रफल
व्या्पारियों की दुकानें 113.53 वर्ग मीटर (7 )
रोजमर्रा की जरूरत के सामान के बूथ/कैंटीन 68.32 वर्ग मीटर (2 )
टॉयलेट 12.57 वर्ग मीटर (1 )

प्रथम तल पर निर्माण:

ब्यौमरा क्षेत्रफल
दुकानें/मार्ग 206.27 वर्ग मीटर (7 )
रोजमर्रा की जरूरत के सामान के बूथ/कैंटीन 68.32 वर्ग मीटर (2 )
टॉयलेट 12.57 वर्ग मीटर (1)
सीढ़ियां  

द्वितीय तल पर निर्माण:

ब्यौतरा क्षेत्रफल
कार्यालय/चौकीदार की रिहायश/टॉयलेट 134.00 वर्ग मीटर

 

प्रस्तायवित मंडी स्थ्ल

(i) उप मंडी स्थोल करसोग की स्था।पना।

करसोग में फल एवं सब्जी् मंडी की स्थातपना के लिए खसरा संख्याए 1463/1020/2, मुहाल करसोग पर स्थिंत 4-19-14 बीघे भूमि को चिह्नित किया गया है। प्रस्ताीवित स्थ1ल की अवधारणाओं के चित्र, साइट प्ला न की रूपरेखा और खर्च का अनुमान तैयार किए जा चुके हैं। एपीएमसी, मंडी ने इस मंडी में सभी आधारभूत सुविधाएं उपलब्धं करवाने का प्रस्तातव रखा है।

(ii) उप मंडी स्थतल बालीचौकी की स्था पना।

एपीएमसी मंडी ने ऑट बंजार राज्यड राजमार्ग पर स्थिात भूमि पर एसएमवाई बालीचौकी की स्थाइपना का प्रस्ता व रखा है। 5 बीघा जमीन स्थाानीय किसानों से खरीदी जाएगी। इससे संबंधित औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।

(iii) उप मंडी स्थाल निहरी की स्था पना।

एपीएमसी, मंडी ने सुंदरनगर विकास खंड में एसएमवाई निहरी की स्था‍पना का प्रस्ताकव रखा है। इस काम के लिए निहरी गांव के पास मौजूद वन भूमि को चुना गया है। भूमि के हस्तांथतरण के लिए औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।